इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न

Why Do You Need to Buy a House in 2022?

हैलीच, इस्तांबुल में ऐतिहासिक प्रायद्वीप और बेयोलू को अलग करने वाली अपनी स्थिति के साथ, वो स्थान है जिसे विदेशी लोगों द्वारा गोल्डन हॉर्न कहा जाता है और अब इस्तांबुल के सबसे सुंदर दिखाई देने वाले बांधों में से एक शामिल करता है। ये पार्क ट्यूलिप युग के साथ सबसे बहुमूल्य समय बिताकर वर्तमान में आये हैं, जहाँ ज्यादातर उपभोग के खर्चे उस्मानी साम्राज्य के दौरान किये गए थे, और इसमें सभी प्रकार की वनस्पतियां, मछलियां हैं और हैलीच ट्यूलिप के मौसम में इस्तांबुल में अपने रंगीन ट्यूलिप का प्रदर्शन करता है। गोल्डन हॉर्न पौराणिक कथाओं में अपनी जगह बनाता है, जिसे लेकर कई किवदंतियां हैं।

किंवदंतियों के अनुसार, जिस कहानी की वजह से विदेशियों ने गोल्डन हॉर्न को गोल्डन हॉर्न का नाम दिया वो अर्गोस के राजा इनकोस की बेटी लो और ज़ीउस के बीच प्यार के साथ शुरू हुई थी। ज़ीउस की पत्नी हेरा लो से जलती थी और उसे खत्म करने की योजना बनाती है। ज़ीउस लो को अपनी पत्नी के गुस्से से बचाने के लिए उसे एक सफेद गाय में बदल देता है। हेरा को सच्चाई का पता चलता है और अपनी योजना को अंजाम देने के लिए एक गुड़मुक्खी भेजती है। किवदंती के अनुसार, इस स्थिति के कारण गाय पागलों की तरह दौड़ती है और महाद्वीपों को पार कर लेती है। गुड़मुक्खी से होने वाली तकलीफ से छुटकारा पाने में असमर्थ गाय मक्खी का काटना सहन नहीं कर पाती और जमीन पर अपना सिर हिलाती है, जिसकी वजह से जमीन के टुकड़े हो जाते हैं और गहरे गड्ढे बन जाते हैं। किवदंती के अनुसार, इस तरह से गोल्डन हॉर्न को गोल्डन हॉर्न के रूप में जाना जाता है। इसके बाद, लो ने बाद में ज़ीउस के साथ केरोसा नामक एक बेटी को जन्म दिया, केरोसा ने समुद्र के देवता, पोसिडोन से शादी की, और बीजान्टिन साम्राज्य के संस्थापक, बीजानस को जन्म दि

गोल्डन हॉर्न की गहराइयों में छिपे खज़ाने

इस्तांबुल में अपनी भौगोलिक स्थिति के कारण हैलीच किवदंतियों में सबसे मूल्यवान स्थानों में से एक है और उन रहस्यमयी क्षेत्रों में से एक है जिसे लेकर इतिहास में कई कहानियां कही गयी हैं। गोल्डन हॉर्न के समुद्र में खज़ाना छिपे होने की कहानी इस्तांबुल की शहरी किवदंतियों के बीच सबसे ज्यादा मशहूर है। ऐसा माना जाता है कि ये खज़ाने गोल्डन हॉर्न में बहुत अधिक गहराई में संदूक में पड़े हुए हैं। 

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image1

शहर के किसी भी प्राधिकरण द्वारा इन अफवाहों को स्वीकार नहीं किया जाता है। वर्तमान समय में ऐसे अफवाहों का प्रचार करना अफवाहों को मजबूत बनाता है। जब फ़ातिह सुल्तान मेहमत, शहर के विजेता, ने इस्तांबुल को जीत लिया, तब बीजान्टिनों ने अपना सोना उस्मानिया को देने के बजाय समुद्र में फेंक दिया था। अगर अभिलेखों में कुछ दस्तावेज़ों की मानी जाए तो भी कोई खजाना नहीं मिलता है। हालाँकि, बीजान्टिन सम्राट जस्टिनियन का जहाज़ उस्मानी साम्राज्य से भागते समय यहाँ डूब गया था। ऐसा कहा जाता है कि बीजान्टिन महलों का सारा खज़ाना गोल्डन हॉर्न के पानी में दफन हो गया था। उस समय, जेनोइस और बीजान्टिन की संपत्ति ले जाने वाली बड़ी नावें यहाँ डूब गयी थीं। जब हम किवदंतियों से वर्तमान समय में आते हैं तो यह इस्तांबुलवासियों को विरासत में मिली संपत्ति की तरह है।

इस्तांबुल की जीत का सबसे जरुरी मोहरा: गोल्डन हॉर्न

इस्तांबुल पर जीत तब मिली थी जब उस्मानी साम्राज्य के सम्राट मेहमत द्वितीय की सेना ने शहर पर कब्ज़ा कर लिया था, जो 6 अप्रैल से 29 मई, 1453 में हुआ था। विजय के सबसे महत्वपूर्ण क्षण गोल्डन हॉर्न पर घटित हुए थे। जब विजयी मेहमत को यह एहसास हुआ कि हॉक नामक तोप से इस्तांबुल की दीवारों पर हमले के बाद शहर नहीं गिरा जिसमें कोई आदमी घुस सकता था, तब उन्होंने बेपहिया गाड़ियों से जहाज़ों को गोल्डन हॉर्न में भेज दिया। यह जानते हुए कि इस्तांबुल समुद्र से घेराबंदी करके नहीं लिया जा सकता, तब बीजान्टिन सम्राट कोन्स्टान्टिन द्वारा जंजीरों से जहाज़ों के लिए गोल्डन हॉर्न बंद करने के बाद सुल्तान ने युद्ध का तरीका बदल दिया, इसलिए वो तेल लगे हुए स्लेज से ज़मीन से समुद्र में जहाज़ों को खींचकर लाये। बीजान्टिन, जिन्होंने सुबह उस्मानी नौसेना को किनारे पर देखा, भयभीत और पराजित हो गए। इस क्षण के प्रतीक के रूप में, हर साल गोल्डन हॉर्न में एक उत्सव आयोजित किया जात

सदाबाद मनोरंजन

विशेष रूप से रमजान के दौरान, आज भी गोल्डन हॉर्न पर सदाबाद आयोजित किया जाता है, जो एक मनोरंजन स्थल है जहाँ ट्यूलिप युग के सभी लोग जाया करते थे। एक गलत नीति के परिणामस्वरूप, 1950 के दशक में इसे एक औद्योगिक क्षेत्र के रूप में चुना गया था, और यहाँ मौजूद हवेलियों और उद्यानों ने समय के साथ कारखानों को रास्ता दिया। जिसकी वजह से गोल्डन हॉर्न का पानी तेजी से प्रदूषित हुआ, और सभी इस्तांबुलवासियों के लिए, गोल्डन हॉर्न का मतलब खराब गंध था। 1980 के दशक के उत्तरार्ध में, इसे बदलने के लिए हैलीच बचाओ परियोजना शुरू की गयी, और मेयरों के बदलने के बावजूद, उन्होंने इस परियोजना को जारी रखा और इसने हैलीच को एक ऐसा स्थान बनाया जहाँ आज नाव चलाने, मछली पकड़ने और पिकनिक मनाने जैसी गतिविधियां होती हैं।

गलता पुल

गोल्डन हॉर्न पर गलता पुल काराकोय और एमिनॉइन को जोड़ता है। पैदल यात्री और वाहन यातायात के लिए खुले गलता पुल पर, सभी इस्तांबुलवासी विशेष रूप से सप्ताहांत पर मछलियां पकड़ते हैं। इस पुल के नीचे आप समुद्र के किनारे बैठ सकते हैं और तुर्की कॉफ़ी की चुस्की ले सकते हैं, फिश रेस्टोरेंट ऐसा वातावरण प्रदान करते हैं जहाँ आप शराब के साथ बिल्कुल ताज़ी मछली का मज़ा ले सकते हैं, और नज़ारों को देख सकते हैं। इस्तांबुल में कोई तनावपूर्ण दिन खत्म होने के बाद, सभी आगंतुक इतिहास, समुद्र और मिथकों के त्रिकोण के बीच में एक आनंददायक शाम बिताते हैं।

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image2

गलता टावर

यह ज्ञात है कि आसमान तक ऊँचे इस टावर को 1384 में जेनोइस द्वारा बनवाया गया था, जिसे कारकोय से टनल पहुँचते समय देखा जा सकता है। उस्मानी साम्राज्य के दौरान, यह टावर जनिरीज़ द्वारा अवलोकन के लिए इस्तेमाल किया जाता था, सेलिम तृतीय के समय इसका प्रयोग आग का निरीक्षण करने के लिए किया जाता था। 

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image3

आग में बर्बाद होने की वजह से, मेहमत द्वितीय के समय में इसकी मरम्मत की गयी। और, एक मिथक के अनुसार, 17वीं शताब्दी में उस्मानी काल में रहने वाले हज़रफ़ेन अहमद केलेबी अपने पंखों की मदद से गलता टावर से उड़ने में सफल हुए थे और इस्तांबुल के आकाश में उड़े थे। ऐसा माना जाता है कि हज़रफ़ेन अहमद केलेबी ने लियोनार्डो दा विंची के पक्षियों की उड़ान से संबंधित रचना से प्रभावित होकर ऐसा कुछ किया था। गलता टावर से निकलने के बाद और बोस्पोरुस को पार करते हुए, केलेबी अनातोलियन की तरफ उस्कदार ज़िले में उड़ गए। उन्हें मुराद द्वारा अल्जीरिया में निर्वासित कर दिया गया और निर्वासन के दौरान 31 वर्ष की आयु में उनकी मौत ह

पियरे-लोटी, गोल्डन हॉर्न का यादगार दोस्त

गोल्डन हॉर्न की चोटियों पर पियरे-लोटी पहाड़ी स्थित है, जो इयूप के सबसे लोकप्रिय दर्शन स्थलों में से एक है, और इसका नाम तुर्की-प्रेमी फ्रेंच लेखक पियरे-लोटी के नाम पर पड़ा है, जो फ्रेंच राजदूत के रूप में इस्तांबुल आये थे, और बहुत कम समय में उन्होंने स्थानीय लोगों का सम्मान पा लिया था और इयूप के निवासी बन गए थे। 

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image4

इस्तांबुल में काम करने के दौरान जब पियरे इस पहाड़ी पर आये, जो इस शहर का एक दर्शनीय स्थल था, तब उन्होंने बार-बार यह कहा कि उन्हें यहाँ की कॉफ़ी बहुत पसंद है और उन्होंने यहाँ अपने उपन्यास लिखे। इसलिए, इस्तांबुलवासियों ने इस कैफे को उनका नाम देकर उन्हें अमर कर दिया। इयूप में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले स्थानों में से एक, पियरे-लोटी पहाड़ी, अभी भी अपने नए आगंतुकों का इंतज़ार कर रही है ताकि वो कॉफ़ी का मज़ा लेने के साथ इस अनोखे दृश्य का आनंद लेते हुए किवदंतियों की निशानियों की तलाश कर सकें।

इस्तांबुल का आध्यात्मिक केंद्र: इयूप सुल्तान परिसर 

इस्लामिक धर्म के लिए इस्तांबुल के पवित्र स्थानों में से एक इयूप ज़िले में स्थित है। इयूप सुल्तान मस्जिद इयूप सुल्तान परिसर के सबसे महत्वपूर्ण स्थानों में से एक है। इस मस्जिद को अपना नाम हज़ अबू इयूब अल-अंसारी से मिला

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image5

है जिन्होंने पहली बार मदीना आने पर इस्लामी पैगम्बर हज़ मुहम्मद का स्वागत किया था और 668-669 में इस्तांबुल की घेराबंदी में उमय्यद की घेराबंदी में शामिल होने के बाद उनकी मौत हो गयी, वो स्थान अक्सेमसेद्दीन के सपने में आया था जहाँ मकबरा स्थित है, जिन्होंने इस्तांबुल के विजय में फ़ातिह सुल्तान मेहमत को पढ़ाया था। वह स्थान जहाँ मकबरा स्थित है, उसे 1459 में फ़ातिह सुल्तान मेहमत द्वारा दोबारा मस्जिदों, मदरसों, इमरत और हमामों में बदल दिया गया था।

फेज़ और अबा कारखाना: फ़ेशेन

गोल्डन हॉर्न के किनारे स्थित फ़ेशेन नामक कारखाने की स्थापना सुल्तान अब्दुलमसीद के अध्यादेश से फेज़ और अबा की जरूरतों को पूरा करने के लिए 1839 में की गयी थी। इस स्थान की स्थापना 1851 में बेल्जियम की मदद से की गयी थी, जो सही मायनों में तुर्की का सबसे पहला औद्योगिक कपड़ा कारखाना था। इसी समय के दौरान, ग्राउंड और स्टीम बुनाई की इकाइयों को विदेशों से लाया गया था, जो दुनिया में इस्पात निर्माण संरचनाओं के पहले उदाहरणों में से एक हैं। 1866 में, यह उस समय के सबसे प्रतिभाशाली बुनाई कारखानों में से एक बन गया। 1939 में, "फेशेन मेंसुकैट ए.एस." नाम के अंतर्गत, इसे सुमेरबैंक डेफर्ड फैक्ट्री में बदल दिया

इस्तांबुल में पुरानी यादें ताज़ा करने वाले स्थान: गोल्डन हॉर्न image6

गया। इस कारखाने को एक ऐसे स्थान के रूप में बहाल किया गया है जहाँ रमजान की शामों में मनोरंजन गतिविधियां आयोजित की जाती है, जिसे 1986 में व्यापक निर्माण गतिविधियों की वजह से खाली करवा दिया गया था। यह स्थान गोल्डन हॉर्न के सबसे प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है, जो समय-समय पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करता है। उपेक्षा और गलत नीतियों के परिणामस्वरूप प्रदूषित होने वाला, गोल्डन हॉर्न अब अपने पार्कों और उद्यानों के साथ घरेलू और विदेशी दोनों पर्यटकों का स्वागत करता है, और यहाँ 60,000 वर्गमीटर सिबली तम्बाकू कारखाने और शाही काइक पर दुनिया के सबसे बड़े पार्क मिनियातुर्क तुर्की पार्क का निर्माण किया जा रहा है।

Properties
Trem Global Logo
1
Footer Contact Bar Image
Whatsapp contact gif for mobile