कहानियों की भूमि: कैपाडोसिया

कहानियों की भूमि: कैपाडोसिया

शानदार चिमनियों, गुब्बारे की सवारियों और प्रसिद्ध भूमिगत शहरों के साथ, हर साल हज़ारों स्थानीय और विदेशी पर्यटकों का स्वागत करने वाला, तुर्की का यह ऐतिहासिक शहर, कैपाडोसिया, इस साल भी पर्यटकों के इंतजार में है। यह स्थान विदेशी पर्यटकों को बहुत पसंद आता है और आपको इतिहास की सैर करने के लिए आकर्षित करने और मनाने के लिए हाल ही में विभिन्न श्रृंखलाओं और फिल्मों में एक कथानक रहा है।

यहाँ चिमनियों के बनने की कहानी लगभग 60 मिलियन साल पुरानी है। उस समय सक्रिय ज्वालामुखी पर्वर्तों इरसीस और हसन पर्वत से निकले लावे से क्षेत्र में विभिन्न परतों का गठन हुआ था। इस सक्रिय अवधि के दौरान, यह शहर इन लावा परतों को शामिल करने वाले अनातोलिया का आंतरिक हिस्सा बना और अभी भी मौजूद है। ज्वालामुखियों और जलवायु परिवर्तन, हवा और पानी की धाराओं के साथ-साथ विभिन्न कठोरता वाली टफ परतों के क्षरण के परिणामस्वरूप, चट्टानों को कुचलते हुए इन अद्भुत संरचनाओं से किज़िलीरमक नदी की घाटियों और मेलेंडिज़ नदी की शाखाओं का निर्माण हुआ। तो इस तरह प्रकृति ने कला के काम को आगे बढ़ाते हुए, तुर्की में एक और आश्चर्य जोड़ दिया, जो पहले ही दुनिया के कई बहुत अच्छे आश्चर्यों को शामिल करता है। जिन लोगों ने सबसे पहले इन शानदार चिमनियों को देखा उन्हें यह पवित्र और रहस्यमयी लगा और उन्होंने इसे परी चिमनियां कहना शुरू कर दिया।

नेवसीर के मिट्टी की ऊपरी सतह की जांच करने पर यह देखा गया कि प्राकृतिक टफ से बनी चट्टानों की आंतरिक संरचना नरम होती है। इसलिए, उनका आकार बनना और क्षरण होना आसान होता है। इस नरम संरचना की वजह से लोग चट्टानों को काट सकते हैं और घरों, व्यावसायिक स्थानों और धार्मिक स्थानों का निर्माण कर सकते हैं। इस क्षेत्र की यात्रा करने पर, आप कई स्थानों पर चट्टानों में तराशे हुए घर और इन घरों से बने हुए शहर देख सकते हैं।

भूमिगत शहरों की स्थापना

चूँकि, अनातोलिया सदियों से सभी जनजातियों के लिए एक संक्रमणकालीन भौगोलिक स्थिति रहा है, इसलिए लोगों ने सुरक्षा कारणों से चट्टानों को काटकर भूमिगत रूप से अपने घर बनाने शुरू कर दिए। हमें लगता है उन्हें इस बात की जानकारी थी कि वो पृथ्वी की सात परतों तक नीचे जा सकते हैं। नागरिकों की अनुमति के बिना इन शहरों के ऊपरी प्रवेशद्वारों को नहीं खोला जाता था, जिन्हें वायु-संचार प्रणाली, पानी की व्यवस्था और घर की अपशिष्ट निकासी जैसी कई संरचनाओं के साथ बनाया गया है और घर में जमीन के नीचे 7 मंजिलें होती हैं। नीचे से अनुमति न मिलने तक प्रवेश न कर पाने के लिए निर्मित, ये संरचनाएं धीरे-धीरे और नीचे और किनारों की ओर बढ़ीं। खतरा होने पर, मीलों लम्बी गुफाएं, दुश्मन को भ्रमित करती थीं और किसी सेना का सामना होने पर यह सुरक्षा भी प्रदान करती थीं, क्योंकि इसके पतले गलियारों से केवल एक व्यक्ति गुजर सकता था, और इसकी पतली सरंचना के कारण इसमें रहने वाला व्यक्ति आसानी से बच जाता था।

लम्बे गलियारों से गुजरने के बाद, सैकड़ों कमरों वाली इमारतों तक पहुँचा जा सकता है। कमरों तक पहुँचने के लिए, सबसे पहले 3 मीटर व्यास के खिसकाने वाले पत्थरों को गुफा के दरवाजों पर से खींचना पड़ता है। बाहर से हस्तक्षेप को रोकने के लिए डिज़ाइन की गयी इन संरचनाओं में, लोग बाहर से किसी भी चीज की जरुरत के बिना लंबे समय तक रह सकते हैं। एक भूमिगत शहर में लगभग निम्नलिखित संरचनाएं होती हैं: पानी का कुआँ, रसोईघर, वायु-संचार नलिकाएँ, शौचालय, खलिहान, रसोईघर, पूजा स्थल

खनन और व्यापार का केंद्र

हम देख सकते हैं कि उत्खनन से पुरातत्वविदों की खोजों की वजह से इस क्षेत्र में खनन बहुत विकसित है। 4,000 ईसा पूर्व पहले जब व्यापार खनन के बराबर था, तब असीरियों ने यहाँ व्यापार संगठन शुरू किया था। हम जानते हैं कि कुलटेपे, कैसेरी में किये गए उत्खनन के दौरान पहला व्यावसायिक शिलालेख और पहला व्यावसायिक लेख मिला था।t. 

अनातोलिया के प्राचीन भूभाग में समृद्ध भूगोल का निवास था जहाँ तांबा, चांदी और सोना काफी मात्रा में मौजूद था। वर्तमान में पुरातत्वविदों द्वारा कहा जाता है कि उस समय में जिन लोगों ने बंदूक बनाने के बजाय व्यावसायिक उत्पादों में खुद को विकसित किया था, उन्हें अपने सामान और खुद की रक्षा के लिए भूमिगत शहरों में रहना पड़ता था, क्योंकि उस समय कांस्य के खान की संख्या बहुत कम थी।

ईसाईयों के छिपने का स्थान

जब मध्य पूर्व में रोमन साम्राज्य का दबदबा था, तब ईसाई लोग अत्याचार और उत्पीड़न से भागकर खुद को बचाने और छिपने के लिए सोगंली, इहलारा और गोरमे की घाटियों में आए। कैपाडोसिया जाने पर आज के समय में भी ईसाईयों द्वारा बनाये गए गिरजाघरों के अवशेष देखे जा सकते हैं, जिन्होंने चट्टानों को काटकर ऊपर वर्णित संरचना वाले सुरक्षित भूमिगत शहरों की स्थापना की थी और छिपने के लिए सबसे उपयुक्त स्थानों में से एक का निर्माण किया था।

गिरजाघरों की दीवारों पर पत्थरों को तराशकर बनाई गयी ईसाई धर्म की चित्रकारियों और रूपांकनों को इस तरह से सुरक्षित रखा गया है मानो वो कोई कलाकृतियां हों। वहां जाने पर आप देख सकते हैं कि वहाँ के रूपांकनों और चित्रों में लोगों की आँखें नक्काशीदार हैं। उनके इस क्षेत्र से जाने के बाद दूसरों द्वारा ईसाईयों को देखने से रोकने के लिए ऐसा किया गया था।

ईसाईयों के बाद तुर्क

मंजिकेरत के युद्ध के बाद, जिसने 11वीं शताब्दी में तुर्कों के लिए अनातोलिया का दरवाज़ा खोल दिया, तुर्क लोगों का प्रभुत्व इस क्षेत्र में बढ़ने लगा और कैपाडोसिया क्षेत्र एक ऐसा केंद्र बन गया जहाँ कई धर्म और संस्कृतियां एक साथ रहती थीं। चूँकि, यह क्षेत्र पूरे अनातोलिया के लिए एक पारगमन स्थल था और कारवां व्यापार मार्ग पर स्थित था, इसलिए सेल्यूकस ने यहाँ सड़कों का निर्माण किया। 

एक दिन की दूरी के बाद इस क्षेत्र में बने कारवां सरायों को इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए सुरक्षित माना जाता है। कराहन कारवां सराय, जिसे आप आज भी देख सकते हैं, अभी भी अपनी शानदार संरचना और बीच में मस्जिद के साथ बेहतरीन दिखाई देता है। प्रवेशद्वार पर स्थित गुंबद वाला सरुहन कारवां सराय एक और कारवां सराय है जो सेल्यूकस का उपहार है। चूँकि, ये कारवां सराय क्षेत्र में मौजूद पीले पत्थरों से बनाये गए थे, इसलिए वे अनातोलिया के दूसरे कारवां सरायों से अलग रंग के होते हैं।

दुनिया की दुर्लभ संरचना "पेडस्टल बोल्डर"

गुलसहिर क्षेत्र में स्थित पेडस्टल बोल्डर संरचना और आकार के मामले में परी चिमनियों से बिल्कुल अलग संरचना वाला है। पर्यटकों द्वारा देखे जाने वाले पेडस्टल बोल्डर क्षेत्र के अलावा, यहाँ एक सेंट जीन गिरजाघर भी स्थित है जो पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। यह गिरजाघर इस क्षेत्र के अन्य गिरजाघरों से अलग है क्योंकि इसमें दो मंजिलें हैं। सेंट जीन गिरजाघर की उत्कृष्ट विशेषताओं में से एक यह है कि गिरजाघर की छत पर रूपांकनों को आज तक संरक्षित रखा गया है और गिरजाघर के दिव्य पाठन हिस्से में गिरजाघर के चारों से आपकी आवाज़ समान रूप से सुनी जा सकती है क्योंकि इसे विभिन्न ध्वनिकी में बनाया गया है

इसके पास पर्यटकों के लिए अलग-अलग पेशकश उपलब्ध हैं; बीजान्टिन गिरजाघरों से लेकर तुर्क मस्जिदों, नाइट क्लबों, आर्ट गैलरियों, कैफे, समुद्रतट पर फिश रेस्टोरेंट तक। तुर्की में कम से कम 250,000 अमेरिकी डॉलर का घर, व्यावसायिक भूमि और अन्य अचल संपत्ति खरीदने वाले व्यक्ति को इस लेख में वर्णित स्थानों को जानने का अवसर मिलता है, और वो तुर्की की नागरिकता का लाभ भी उठा सकते हैं। देश के सबसे महत्वपूर्ण शहरों में अचल संपत्ति खरीदकर तुर्की नागरिक बनने के लिए, आप ट्रेम ग्लोबल के ऑफर देख सकते हैं, और आप नागरिकता जैसे विषयों पर पेशेवर सहायता भी पा सकते हैं।

  • राज्य गारंटी परियोजनाएं
  • कानून और निवेश परामर्श
  • निजीकृत निवेश समाधान
  • बिक्री के बाद सेवा की उच्च गुणवत्ता
  • निवेशकों के लिए विशेष पैकेज
  • 3 महीने के भीतर तुर्की पासपोर्ट
1