तुर्की की पारंपरिक छाया कठपुतली: हसीवत और करागोज़

Why Do You Need to Buy a House in 2022?

करागोज़ और हसीवत तुर्की की पारंपरिक छाया कठपुलती के दो सबसे मशहूर चरित्र हैं। रोशनी से प्रकाशित एक पर्दे के सामने, मनोरंजन की यह पुरानी पारंपरिक कला, दोनों चरित्रों के कठपुतलियों के सजीव रूपांतरण और पर्दे के पीछे उनका समर्थन करने वाले अन्य चरित्रों के साथ, अपने दर्शकों से मिलती है, और तुर्की संस्कृति की सबसे मनोरंजक यादों को दर्शाती है जो सदियों से संचित की गयी है। भले ही आधुनिक समय में हम उनसे देश के हर एक कोने में नहीं मिल सकते, फिर भी रमज़ान की शुरुआत के साथ, स्थानीय संस्थानों के सहयोग से इफ्तार के बाद ये प्रदर्शन किये जाते हैं और आज भी कई लोगों के मन में पुरानी यादों को ताज़ा कर देते हैंछाया नाटकों में मौखिक साहित्य का समावेश होता है, जो वर्तमान समय में संचित और प्रवाहित होते हुए सामाजिक घटनाओं के हास्य और व्यंग्य के माध्यम से, हर संस्कृति के अतीत में मौजूद रहा है। हसीवत और करागोज़ कई देशों में प्रसिद्ध हैं, लेकिन इसकी लोकप्रियता के कारण, इस बारे में जानकारी नहीं है कि किसने इसे सबसे पहले खोजा और प्रदर्शित किया था। कई प्राधिकरणों ने यह स्वीकार किया है कि हसीवत और करागोज़ के चरित्रों को सबसे पहले तुर्कों ने खोजा था। हालाँकि, तुर्की बकलावा की तरह ही, एजियन सागर के पार स्थित पड़ोसी देश, ग्रीस, ने "करागोज़ और हसीवत" का पेटेंट प्राप्त करने के लिए यूरोपीय संघ में आवेदन किया था, जबकि अंतर्राष्ट्रीय कठपुतली संघ का यह कहना है कि करागोज़ और हसीवात ग्रीस की तुलना में तुर्की में ज्यादा पहले से थे, इसलिए उन्हें हसीवत और करागोज़ का पेटेंट देने से इंकार कर दिया गया। ये दोनों चरित्र सदियों से कई भौगोलिक स्थितियों में अपनी खुद की संस्कृतियों में रहे हैं, और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने इसे तुर्की संस्कृति के एक महत्वपूर्ण अवयव के रूप में स्वीकार किया हैतुर्की की पारंपरिक छाया कठपुतली: हसीवत और करागोज़ image1

तुर्कों की विशेष छाया कठपुतली: हसीवत और करागोज़

9वें उस्मानी सुल्तान, 88वें इस्लामी खलीफा और पहले तुर्की-इस्लामी खलीफा, यवुज सुल्तान सलीम, जिन्होंने 1517 में मिस्र पर जीत हासिल की थी, ने अपने बेटे को नाटक दिखाने के लिए उस छाया कलाकार को आमंत्रित किया था जिन्होंने मम्लूक के सुल्तान, तुमानबे की हत्या, को नाटक में प्रदर्शित किया था, और उनके बेटे उस्मानी साम्राज्य के दसवें सुल्तान और 89वें इस्लामी खलीफा, महान सुलेमान, थे। इस तरह से, अनातोलिया की उपजाऊ जमीन पर पहली बार छाया नाटक के प्रदर्शन की शुरुआत हुई। उस्मानी साम्राज्य के अभिलेखागार में मौजूद आधिकारिक दस्तावेज़ यह साबित करता है कि सबसे पहला छाया नाटक राजमहल में आयोजित किया गया था, जहाँ 95 मिलियन विभिन्न दस्तावेज़ मौजूद हैं। "सुर्नामे-ए-हुमायूँ" नामक दस्तावेज़ में यह दिया गया है कि विशेष रूप से सुल्तानों के उत्तराधिकारियों के खतना समारोह के दौरान हसीवत और करागोज़ का नाटक किया जाता था, और ऐसा माना जाता है कि यह दस्तावेज़ 1582 के समय का ह

करागोज़ और हसीवत कौन थे?

इन चरित्रों के बारे में जो सबसे लोकप्रिय कहानी है उसके अनुसार ये दोनों मल्हन हातून के बेटे, उस्मानी साम्राज्य के संस्थापक, ओस्मान गाज़ी के बेटे, उस्मानी सुल्तान ओरहान गाज़ी के शासनकाल के दौरान रहते थे। कम्बुर बाली सेलेबी (करागोज़) बुर्सा में सुल्तान ओरहान मस्जिद के निर्माण में लोहे का सामान बनाने वाले कर्मचारी के रूप में काम करता था, और हलील हसी इवज़ (हसीवत) मस्जिद के निर्माण में दीवार बनाने वाले कर्मचारी के रूप में काम करता था। काम के दौरान इन दोनों के बीच लड़ाई-झगड़े हो जाते थे और उनकी इस कहासुनी को आसपास के लोग बहुत चाव से सुनते थे। उस्मानिया की शहरी योजना में, मस्जिदों को शहर के मध्य में रखने की योजना बनाई गयी थी, और इन दोनों कर्मचारियों के झगड़े के कारण ऐसा नहीं हो सका और इसकी स्थिति बदल गयी क्योंकि उनकी लड़ाइयों से आसपास के लोगों और निर्माणकार्य में लगे कर्मचारियों का ध्यान इनकी कहासुनी पर लग जाता था।

इसके फलस्वरूप, काम खराब होने और निर्माण में देरी के कारण उस समय के सुल्तान ने यह तय किया कि इसके लिए ये दोनों जिम्मेदार थे और अपनी जिम्मेदारी न निभा पाने के कारण इन दोनों को मौत की सजा दे दी गयी। उनके इस फैसले के बाद, सुल्तान को इसपर बड़ा अफ़सोस हुआ और शेख कुश्तरी ने उन्हें तसल्ली दी। ऐसा माना जाता है कि सबसे पहले शेख कुश्तरी ने अपने सिर पगड़ी निकालकर और उससे पर्दा बनाकर, और इसके पीछे एक दीपक रखकर, अपने जूतों से करागोज़ और हसीवत के चरित्रों का प्रदर्शन करते हुए छाया नाटक किया था। करागोज़ और हसीवत के खेलों को छाया खेल, "आईना" या "काल्पनिक पर्दा" के नाम से जाना जाता है, जो आज तक करागोज़ का पर्दा है और इसे शेख कुश्तरी चौक भी कहा जाता है क्योंकि सबसे पहले शेख कुश्तरी ने ही इसे बनाया था। इसी कारण से, पारंपरिक तुर्की छाया नाटक की कला में, शेख कुश्तरी को करागोज़ और हसीवत के दृश्यों के उस्ताद के रूप मेंदो विपरीत चरित्रों का सामंजस्य सदियों से चला आ रहा है

करागोज़ और हसीवत का चरित्र एक-दूसरे से अलग है। उनका व्यवहार, विचार और बातचीत उनके बीच के इस अंतर के सबसे महत्वपूर्ण सूचक हैं। जब हम करागोज़ के चरित्र को देखते हैं तो, हम देखते हैं कि उसका व्यक्तित्व सच्चा है, वह एक साहसी चरित्र को दर्शाता है लेकिन साथ ही ईर्ष्यालु, क्रोधी और आमतौर पर खुश रहने वाला, जुझारू, अशिक्षित, विवाहित चरित्र है; वहीं, दूसरी ओर हसीवत एक ऐसे चरित्र को दर्शाता है जो झूठ बोलने से नहीं कतराता, वह कायर, शांत प्रकृति वाला, नाखुश, कपटी, बुद्धिमान, अविवाहित चरित्र है और आमतौर पर लोगों के साथ उसका व्यवहार रुखा होता है।

हम देखते हैं कि करागोज़ को लोगों में लोकप्रिय व्यक्ति, साथ ही सच्चे इंसान के रूप में दिखाया जाता है। अशिक्षित करागोज़ हसीवत के हर एक शब्द का जवाब देता है और अपनी समझ के अनुसार हर शब्द का अलग मतलब निकालता है। करागोज़, जिसके पास हर घटना के लिए एक अलग अर्थ होता है, घटनाक्रमों के मध्य में है और अपनी बोली के साथ कठिन स्थिति में है। दूसरी तरफ, अपनी हाज़िरजवाबी की वजह से, वह किसी मुसीबत में फंसे बिना घटनाक्रमों से बाहर निकलने में सफल होता है।

हसीवत ही वो व्यक्ति है जो करागोज़ के लिए नौकरी ढूंढता है, जो बुर्सा की सड़कों पर बेरोजगार घूम रहा होता है। छाया के खेल में, खेलों के विषय के अनुसार हमें करागोज़ अलग-अलग रूपों में मिलता है। सामान्य तौर पर, हम उसे "चौकीदार करागोज़", "न्यायाधीश करागोज़", "तबलों वाले करागोज़", "गधे करागोज़", "नंगे करागोज़" के रूप में देखते हैं। वहीं दूसरी तरफ, हसीवत, जो एक शांत व्यक्ति है, उसका स्वरुप काफी लोभी है। हसीवत अपने खुद के हितों को देखते हुए व्यवहार करता है, और करागोज़ को बुद्धिमानी से जवाब देता है क्योंकि वह करागोज़ की तुलना में ज्यादा शिक्षित है। हसीवत काफी सामाजिक है, और आमतौर पर उन भाषाओं के वाक्य चुनता है जो लोग समझ नहीं सकते, और करागोज़ के लिए नौकरी ढूंढता है और उसकी कमाई से अपना जीवन चलाता है। इसलिए, विभिन्न नाटकों में, हम हसीवत के चरित्र को "बकरी हसीवत", "नंगे हसीवत", "महिला हसीवत", और "बटलर हसीवत" ककल्पना के पटल पर अन्य चरित्र

लोग विपरीत चरित्रों की इन सदियों पुरानी कहानियों और प्रदर्शनों को देखते हुए आनंद लेते हैं, साथ ही इन दोनों चरित्रों से जीवन के सबक लेते हैं, और उनकी बुद्धिमान बातचीत उनके सामने जीवन की सच्चाई उजागर करती है। करागोज़ और हसीवत के नाटक में, सेलेबी, मतिज़, तुजसुज डेली बेकिर, तीर्यकी, असम, जेन्नी, लाज़, बेबरुही सहायक चरित्रों की भूमिका निभाते हैं, इस तरह से, उस समय देश के लोगों के रहन-सहन को मंच पर लाया जाता है।

कल्पना और आकृतियों का पटल बनाना

चमड़े के टुकड़ों को आकार देते हुए, अलग-अलग रंगों से चमड़े को रंगकर चरित्रों को बनाने की प्रक्रिया शुरू होती है। छाया नाटक करने वाले कलाकार को “स्वप्नद्रष्टा” कहा जाता है, और चरित्र इस व्यक्ति की आवाज़ और हाथों की गतिविधियों से सजीव होते हैं। इस दृश्य में, प्रशिक्षु (सहायक), सैंडिक्कर (अन्य सहायक), यरदक (घर में), देरेज़ेन (वादन) और हम्माल (करागोज़ ज़म्बील को उठाने वाला) कल्पना में मदद करते हैं। पारंपरिक तुर्की नाटक में स्वप्नद्रष्टा की मदद करके की स्वप्नद्रष्टा बनना संभव है। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस नाटक में मदद करने वाले लोग करागोज़ और हसीवत के चरित्र को अच्छी तरह समझ जाते हैं और वो सही आवाज़ और गतिविधियां देने में समर्थ होते हैं।

हम देखते हैं कि अनातोलिया में जानवरों के चमड़े (मवेशी या ऊंट का चमड़ा) को छाया नाटक के दृश्य में प्रयोग किया जाता है, जो एक लकड़ी के बेंच पर फैले सफेद पर्दे की बैकलाइटिंग से बनता है। विभिन्न अंगों पर छेद से बनाई गयी, आकृतियों के छेदों को उचित आकार की लकड़ियों के डंडों को चलाकर घुमाया जाता है। पर्दे के पीछे, पर्दे की कल्पना की तरफ एक "बैक बोर्ड" होता है। छाया नाटक में प्रयोग किये जाने वाले तेल के दीपक और बल्ब बैकबोर्ड पर पाए जाते हैं, जो डफली, घंटी, नार्के, रीड और पर्दे को प्रकाशित करने के लिए प्रकाश के उपकरण होते हैं। उपरोक्त वर्णित सभी चमड़े से बने चरित्रों को एक विशेष विधि से पारदर्शी बनाया जाता है और "नेवरेगन" नामक एक तेज चाकू से संसाधित किया जाता है। सभी टुकड़ों को "किशिर" या "कटगुट" नामक रस्सियों से आपस में जोड़ने के बाद, चरित्रों को स्याही या पेंट से रंगा जातयह तुर्की छाया नाटक राजनीतिक व्यंग्य को शामिल करके उस समय के लोगों के बीच सामाजिक आलोचना का एक स्रोत था, और पुराने ज़माने में ज्यादातर वयस्क लोगों के लिए प्रदर्शित किया गया था, और उस्मानी साम्राज्य के पश्चिमीकरण के शुरूआती ठोस चरणों के बाद इसे बंद कर दिया गया था और इसके बाद यह फिर बच्चों का खेल और परंपहसीवत: मेरे प्यारे! मुझे एक अच्छे मनोरंजन की जरूरत है!रा बन गया है।

े र

स्वीका।

Properties
Trem Global Logo
1
Footer Contact Bar Image
Whatsapp contact gif for mobile